समाचार विस्तार से | एसजेवीएन लिमिटेड
समाचार

एसजेवीएन में हिन्दी पखवाड़े के समापन अवसर पर "दिनकर महोत्सव" का आयोजन (मुख्य सतर्कता अधिकारी ने किए विजेता प्रतिभागी पुरस्कृत)

अक्तूबर 03, 2018

शिमला 03 अक्‍तूबर,2018

 

एसजेवीएन के कारपोरेट कार्यालय, शिमला में हिन्‍दी पखवाड़े के समापन को 'दिनकर महोत्‍सव' के रूप में उत्‍साहपूर्वक मनाया गया । हिंदी पखवाड़े के दौरान विभिन्‍न प्रतियोगिताओं यथा आलेखन-टिप्पण प्रतियोगिता, शब्‍द ज्ञान प्रतियोगिता, सुलेख प्रतियोगिता, स्‍मरण शक्ति प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था ये प्रतियोगिताएं हिन्‍दीभाषी और गैर-हिन्‍दी भाषी कर्मचारियों के लिए अलग-अलग दो संवर्गों में आयोजित की गई जबकि चित्र आधारित कहानी लेखन तथा कवि दिनकर की कविताओं पर आधारित काव्‍य-पाठ प्रतियोगिता का आयोजन निगम स्‍तर पर किया गया था ये दोनों प्रतियोगिताएं कार्यपालकों तथा गैर-कार्यपालकों के लिए अलग-अलग आयोजित की गई थी

 

रामधारी सिंह दिनकर की 110वीं जयंती पर राष्‍ट्रकवि को याद करते हुए निगम के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने कवि दिनकर की कविताओं और लेखन पर आधारित काव्‍य-पाठ/आलेख पाठ प्रतियोगिता में भाग लिया

 

कार्यक्रम के मुख्‍य अतिथि निगम के मुख्‍य सतर्कता अधिकारी ,श्री एस.एस. नेगी थे  श्री मुकुल तिरकी, वरिष्‍ठ अपर महाप्रबंधक(मानव संसाधन), श्री शैलेन्‍द्र सिंह, वरिष्‍ठ अपर महाप्रबंधक(मानव संसाधन) , निगम के वरिष्‍ठ अधिकारियों तथा कर्मचारियों सहित निर्णायक के रूप में डॉ. शर्मा लोहुमी, शिवालिक कॉलेज ऑफ नर्सिंग (हि.प्र. विश्‍वविद्यालय) शिमला तथा निगम के सीएमडी के उप महाप्रबंधक, श्री अजय शर्मा इस अवसर पर उपस्थित थे  

 

मुख्‍य अतिथि ने कहा कि राजभाषा हिन्‍दी को संविधान के तहत राजकाज की भाषा का दर्जा दिया गया है हमें अपने कार्यालयी कामकाज में अधिक से अधिक हिन्‍दी  का प्रयोग करना चाहिए हिन्‍दी राजकाज की भाषा के साथ हमारी मातृभाषा भी है । उन्‍होंने आगे कहा कि हिंदी पखवाड़े के समापन पर इस राष्‍ट्रकवि को याद करना बेहद सार्थक है । कवि दिनकर न केवल एक कवि थे बल्कि एक महान विचारक होने के साथ-साथ एक जनकवि भी थे।

 

 

हिन्‍दी पखवाड़े के विजयी प्रतिभागियों तथा कविता पाठ के विजेता प्रतिभागियों को मुख्‍य सतर्कता अधिकारी, श्री एस.एस. नेगी द्वारा पुरस्‍कृत किया गया

 

कार्यक्रम की आयोजना तथा मंच संचालन निगम की वरि. प्रबंधक(राजभाषा), श्रीमती मृदुला श्रीवास्‍तव ने किया।
Go to Navigation